मंगलवार, 25 अगस्त 2009

चीन के कम्‍युनि‍स्‍टों का संपत्‍ति‍ प्रेम

हाल ही में जारी हुरून रि‍पोर्ट में बताया गया है कि‍ दुनि‍या के सबसे ज्‍यादा अमीर चीन में रहते हैं। एक लाख तेतालीस हजार मल्‍टीमि‍लि‍नि‍यर और आठ हजार आठ सौ बि‍लि‍नि‍यर चीन में हैं। अकेले शंघाई में 1,16,000 मल्‍टीमि‍लि‍नि‍यर और सात हजार बि‍लि‍नि‍यर हैं। इनमें ज्‍यादातर वे लोग हैं जो चीन के कम्‍युनि‍स्‍ट पार्टी के सदस्‍य हैं,अथवा सदस्‍यों के करीबी रि‍श्‍तेदार हैं,अथवा भू.पू. सेना अधि‍कारी हैं। इनके शौक हैं शानदार बड़े बड़े रि‍हाइशी भवन,वि‍ला ,मर्सडीज कार आदि‍ खरीदना,इनकी बीबि‍यों के शौक हैं मंहगे शानदार क्‍लबों में जाना,पि‍यानो बजाना सीखना,कलाकृति‍यां खरीदना ,दुनि‍या के वि‍त्‍तीय जगत के बारे में अपडेट रहना। काश भारत में कम्‍युनि‍स्‍ट अरबपति‍ होते।

1 टिप्पणी:

  1. अगर सिंगुर-नन्दीग्राम और लालगढ नहीं होता तो यह भारत में भी हो सकता था. दोस्तोव्येस्की की एक बात याद आ रही है कि अगर आदमी भगवान को छोड दे तो वह कुछ भी कर सकता है. लगता है ईश्वर को छोड चुके लोग इसी जन्म में सब लूट लेना चाहते हैं! याद ही नहीं रहता कि मार्क्स किस तरह का जीवन जीते हुए संघर्ष करते रहे. कम्युनिज्म को बदनाम कर डाला है इन लोगों ने. ये अपना नाम कुछ और क्यों नहीं रख लेते?

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मेरा बचपन- माँ के दुख और हम

         माँ के सुख से ज्यादा मूल्यवान हैं माँ के दुख।मैंने अपनी आँखों से उन दुखों को देखा है,दुखों में उसे तिल-तिलकर गलते हुए देखा है।वे क...