मंगलवार, 17 मई 2016

हिन्दू भारत !!


            जितनी सड़कों के नाम बदलने हों एकबार पत्र लिखकर मोदीजी को दे दो ! सब एक साथ बदल लो !यह रोज-रोज का झगड़ा खत्म करो !! देखते हैं उसके बाद क्या चाहते हो ?
राममंदिर बनाना है वह भी बना लो! जितनी मस्जिदें गिरानी हैं और मंदिर बनाने हैं,सब एक साथ बना लो ! न्यायपालिका पसंद न हो तो उसे अपदस्थ कर दो !!इसके बाद क्या करोगे ?
पाकिस्तान को खत्म करना हो तो वो भी कर लो ! अखंड भारत बनाना हो तो वो भी बना लो ! फिर क्या करोगे ? इसके बाद का तो तुम्हारे पास कोई एजेण्डा नहीं है।
रही बात शिक्षा की तो मारो एक अध्यादेश सारे विश्वविद्यालयों को वैदिक विश्वविद्यालय,योग पीठ,संत पीठ सिंहस्थ पीठ आदि में तब्दील कर दो ! वैज्ञानिकों से कहो कि वे और कहीं नौकरी ढूँढ लें! वैज्ञानिक संस्थान बंद कर दो!!कल-कारखाने बंद कर दो! प्रसाधन की सामग्री बंद कर दो !गोपीचंदन लगाना अनिवार्य कर दो!
लड़कियों से कहो वे देशी बनें,कपड़े बदलें,दर्जियों से कहो पुराने किस्म के देशी हिन्दू कपडों के सिवा और किसी तरह के कपड़े न बनाएं। मुसलमानों और ईसाईयों के कपड़े,संस्कार,आदतें,विचार ,नाम ,संगीत आदि सब बदल दो!!
सबको सिर पर चोटी रखना,यज्ञोपवीत पहनना,अनिवार्य कर दो! सब कुछ हिन्दू-हिन्दू कर दो!! हिन्दू संगीत,हिन्दू वाद्य,हिन्दू नृत्य,हिन्दू स्थापत्य,हिन्दू सड़कें,हिन्दू शहर,हिन्दू बैंक,हिन्दू टीवी,हिन्दू रेडियो ,हिन्दू सिनेमा औरहिन्दू जनता !!
चैन से रहने के लिए हिन्दू हिन्दू होना जरूरी है।हिन्दू नहीं तो चैन नहीं।
विदेशी ड्रेस,विदेशी माल,विदेशी तकनीक, विदेशी कम्युनिकेशन सब बंद कर दो,सब कुछ देशी कर दो,एकबार हम भी तो देखें देशी संघी भारत कितना सुंदर लगता है!!

3 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सही लिखा है। धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सही लिखा है। धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मेरा बचपन- माँ के दुख और हम

         माँ के सुख से ज्यादा मूल्यवान हैं माँ के दुख।मैंने अपनी आँखों से उन दुखों को देखा है,दुखों में उसे तिल-तिलकर गलते हुए देखा है।वे क...