शनिवार, 3 जुलाई 2010

बेकसूर कम्युनिस्ट हैं क्यूबा के प्रसिद्ध इतिहासकार इस्तवान मोरलेस

    दुनिया में समाजवाद के पराभव का प्रधान कारण है भ्रष्टाचार। भ्रष्टाचार से न लड़ पाने के कारण ही सोवियत संघ और समूचे पूर्वी यूरोप की समाजवादी व्यवस्था ढ़ह गयी। अब भ्रष्टाचार का दीमक समाजवादी क्यूबा में पहुँच गया है।  
     क्यूबा के जानेमाने इतिहासकार इस्तवान मोरलेस को कुछ दिन पहले उनके एक लेख के कारण क्यूबा की कम्युनिस्ट पार्टी ने पार्टी से निकाल दिया है। यह खबर आज के ‘गार्दियन’ में छपी है और 28 जून 2010 को यह खबर सबसे पहले ‘हवाना टाइम्स’ ने छापी थी।
     इस्तवान मोरलेस को क्यूबा के बड़े इतिहासकारों में गिना जाता है और वे सार्वजनिक मंचों पर पार्टी लाइन के बड़े प्रवक्ता भी रहे हैं। इस्तवान को जिस लेख के कारण पार्टी से निकाला गया वह लेख बड़ा ही अद्भुत लेख है। इस लेख में उन्होंने क्यूबा में बढ़ रहे भ्रष्टाचार की ओर ध्यान खींचा है और भ्रष्टाचार को प्रति क्रांति की संज्ञा दी है।
     इस्तवान मोरलेस को इस बात के लिए पार्टी से निकाला गया क्योंकि उन्होंने पार्टी और सरकार में बढ़ रहे भ्रष्टाचार और नौकरशाही का अपने लेख में जिक्र किया था। उल्लेखनीय है कि पलाया नगरपालिका की पार्टी कमेटी के इस्तवान सदस्य थे और जमीनी स्तर पर लोगों में पार्टी का काम करते थे। उनके लेख को पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्व ने गंभीरता से लिया और उन्हें पार्टी से निकाल दिया।
      इस्तवान का विवादास्पद लेख पार्टी नियंत्रित मीडिया में ही छपा है। मजेदार बात यह है कि कम्युनिस्ट पार्टी में कोई भी चीज बगैर तहकीकात के नहीं छपती। पार्टी के जिम्मेदार लोग लिखे को पढ़कर छापते हैं। सवाल यह है कि इस्तवान का लेख यदि पार्टी लाइन के अनुरूप नहीं था तो उसे सरकार नियंत्रित अखबार में क्यों प्रकाशित किया गया ? पार्टी से निकाले जाने को इस्तवान ने चुनौती देने और निष्कासन के खिलाफ पार्टी के सर्वोच्च नेतृत्व के सामने अपील करने का फैसला किया है।
     उल्लेखनीय है क्यूबा के टेलीविजन कार्यक्रमों में इस्तवान नियमित रूप से  भाग लेते रहे हैं। क्यूबा के श्रेष्ठतम बुद्धिजीवी-इतिहासकारों में गिने जाने वाले इस्तिवान का कोई अपराध नहीं है जिसके कारण वे पार्टी से निकाले गए हैं। उन्होंने प्रशासन में व्याप्त भ्रष्टाचार और नौकरशाहाना रवैय़्ये की बात की है।
   ( क्यूबा के सरकारी टेलीविजन में भाग लेते हुए इस्तवान मोरलेस)    
सवाल यह है कि प्रशासन में व्याप्त भ्रष्टाचार और नौकरशाही के खिलाफ पार्टी सदस्य सार्वजनिक रूप से नहीं बोलेंगे तो क्यूबा. की कम्युनिस्ट पार्टी भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ेगी कैसे ? स्वयं क्यूबा के राष्ट्रपति राउल कास्त्रो कुछ महीना पहले कम्युनिस्ट पार्टी के युवाओं के सम्मेलन में भ्रष्टाचार के खिलाफ सार्वजनिक मुहिम चलाने की बात कह चुके हैं। वे यह भी मान चुके हैं कि क्यूबा में प्रशासन में भ्रष्टाचार है और उससे लड़ना है। इस परिप्रेक्ष्य में देखें तो इस्तवान को पार्टी से निकालना भ्रष्ट लोगों की हिमायत में खड़े होना है।
    दूसरा सवाल यह भी है कि सरकारी तंत्र जब बेईमानी करने लगे,भ्रष्टाचार करने लगे तो कम्युनिस्टों को क्या इसे छिपाना चाहिए ? क्या सरकारी भ्रष्टाचार पर सार्वजनिक तौर पर बोलना कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यक्रम और अनुशासन को तोड़ना है या पार्टी के प्रति गहरी निष्ठा का प्रमाण है ?
     इस्तवान की पार्टी आस्थाएं सब जानते हैं। वे सरकारी चैनल पर पार्टी के चर्चित चेहरे के रूप में नियमित आते रहे हैं और उनके लेखन और बौद्धिक श्रेष्ठत्व को क्यूबा का बुद्धिजीवीवर्ग जानता और मानता है। इस्तवान सबसे साख वाले बुद्धिजीवी हैं। उनके साथ क्यूबा की कम्युनिस्ट पार्टी का इस तरह का व्यवहार इस बात को दरशाता है कि क्यूबा में भी अंदर ही अंदर समाजवादी व्यवस्था में दीमकें लग गयी हैं।
        इस्तवान ने आरोप लगाया है कि 50 साल की साम्यवादी सफलताओं को भ्रष्टाचार निकल जाएगा। यह लेख सरकारी अखबार में प्रकाशित होने के कुछ ही समय बाद अचानक हटा दिया गया। लेकिन क्यूबा के बुद्धिजीवियों ने इसे तत्काल लोड कर लिया और बड़े पैमाने पर बांटा है।    

2 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मेरा बचपन- माँ के दुख और हम

         माँ के सुख से ज्यादा मूल्यवान हैं माँ के दुख।मैंने अपनी आँखों से उन दुखों को देखा है,दुखों में उसे तिल-तिलकर गलते हुए देखा है।वे क...