शुक्रवार, 16 जुलाई 2010

अमेरिकी भक्ति के मार्ग पर कांग्रेस

       कांग्रेस ने अमेरिकी नव्य-उदारतावाद के मार्ग का अनुसरण करते हुए एक नया कदम उठाया है अब भारत सरकार ने समय की कसौटी पर खरी उतरी भारत-ऱूस मैत्री को तिलांजलि देते हुए अमेरिकी मार्ग पर पूरी तरह चलने का फैसला कर लिया है। आगामी नबम्वर में अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा भारत के दौरे पर आने वाले हैं और इस मौके पर रूस की दोस्ती को धता बताते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 5 बिलियन डॉलर के हथियार अमेरिका से खरीदने का फैसला किया है। ओबामा की भारत यात्रा के मौके पर शस्त्र खरीद से संबंधित समझौते पर हस्ताक्षर होने की संभावना है। उल्लेखनीय कि अभी तक भारत सबसे ज्यादा हथियार रूस से खरीदता था। लेकिन ओबामा के साथ नबम्वर में जो शस्त्र खरीद पर जो समझौता होगा उसके बाद से रूस की जगह अमेरिका पहले स्थान पर आ जाएगा। 

1 टिप्पणी:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मेरा बचपन- माँ के दुख और हम

         माँ के सुख से ज्यादा मूल्यवान हैं माँ के दुख।मैंने अपनी आँखों से उन दुखों को देखा है,दुखों में उसे तिल-तिलकर गलते हुए देखा है।वे क...