शनिवार, 17 अप्रैल 2010

न्याय की मांग करने पर चीन में तीन ब्लॉगर जेल भेजे गए




     चीन की एक निचली अदालत ने तीन ब्लॉगरों को सजा सुनाकर जेल भेजा है। इनका अपराध यह था कि इन्होंने अपने ब्लॉग पर लिखकर एक मॉ के साथ हुए अन्याय का प्रतिवाद किया और जो मॉ नेट पर लिख नहीं पा रही थी  उसके लिए न्याय की मांग की।
उल्लेखनीय है एक लड़की के साथ अपराधियों के एक गिरोह ने बलात्कार किया और बाद में वह लड़की गर्भवती हो गयी और उसकी मौत हो गयी। इस लड़की की मॉ अशिक्षित थी।  स्थानीय प्रशासन अपराधियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रहा था इससे पीडित लड़की की मॉ बेहद परेशान थी और उसकी इस परेशानी को अभिव्यक्ति देने का काम किया 3 ब्लॉगरों ने।
   चीन के दक्षिण में स्थित फूजोओ शहर की अदालत ने तीन ब्लॉग लेखकों ने  संबंधित बलात्कार की घटना के समग्र ब्यौरे और वीडियो फोटोग्राफ इंटरनेट पर प्रकाशित कर दिए जिसके कारण हजारों ब्लॉगर इंटरनेट पर सक्रिय हो गए।
    जिन ब्लॉगरों ने सबसे पहले यह खबर दी उनमें से एक फेन येन क्यूइंग को दो साल की सजा,यू जिंग यू को और वू हु यांग को एक -एक साल की सजा सुनाई गयी है। इस मसले पर पुलिस का कथन था कि पीडित लड़की की मौत गर्भधारण के कारण नहीं हुई, जबकि पीड़िता की माँ का कहना है कि उसकी बेटी के साथ पहलेगैंग रेप हुआ और उससे वह लड़की गर्भवती हो गई तत्पश्चात उसकी मृत्यु हो गई।
     माँ यह मांग कर रही थी कि सारे मसले की फिर से जांच हो और उसकी इस मांग पर ब्लॉगर सक्रिय हुए और चीन में जबर्दस्त हंगामा हुआ। हजारों ब्लॉगरों ने अदालत के बाहर एकत्रित होकर ब्लॉगरों को सजा दिए जाने का प्रतिवाद किया। काश, हम हिन्दी और भारतीय भाषाओं के ब्लॉगर इस घटना से कुछ सबक लेते और अशिक्षित और शिक्षित जनता के मानवाधिकारों के संरक्षण और संवर्द्धन के लिए ब्लॉगिंग का इस्तेमाल करते।          



1 टिप्पणी:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मेरा बचपन- माँ के दुख और हम

         माँ के सुख से ज्यादा मूल्यवान हैं माँ के दुख।मैंने अपनी आँखों से उन दुखों को देखा है,दुखों में उसे तिल-तिलकर गलते हुए देखा है।वे क...