शनिवार, 24 अप्रैल 2010

सेक्सकांड पर पोप और केथोलिक चर्च की साख गिरी


           केथोलिक चर्च में समलैंगिक दुराचरण और पादरियों के द्वारा बालकों के शारीरिक शोषण का मामला पोप बेनेडिक्ट और केथोलिक चर्च की इमेज के लिए कलंक का धब्बा साबित हुआ है। हाल ही में विश्व विख्यात मीडिया संस्था पेव रिसर्च सेंटर के द्वारा अमेरिकी जनता में कराए एक सर्वे से पता चला है कि पादरियों के द्वारा बच्चों के साथ किए गए शारीरिक शोषण के सेक्सकांडों के मीडिया में उदघाटन के बाद पोप की आम जनता में साख गिरी है। मात्र 3 प्रतिशत लोगों का मानना है कि पोप ने शानदार ढ़ंग से सेक्सकांड को सभाला। ठीक से संभाला मानने वालों की संख्या 9 प्रतिशत थी। 71 प्रतिशत का मानना था कि घटिया ढ़ंग से सेक्सकांड को संभाला। 27 प्रतिशत का मानना था कि सामान्य तरीके से सेक्सकांड़ को संभाला।
    उल्लेखनीय है कि पोप की आम जनता में सेक्सकांड़ को लेकर साख सन् 2008 से लगातार गिरती जा रही है। आम तौर पर यह मिथ है कि अमेरिका में पोप को आम लोग जानते होंगे लेकिन वास्तविकता यह नहीं है। अप्रैल 2008 के पहले अमेरिका बहुत कम लोग पोप को जानते थे। लेकिन अप्रैल 2008 में पोप की अमेरिका यात्रा के समय मीडिया ने पोप का जमकर प्रचार किया तो 74 प्रतिशत जनता ने कहा कि उन्होंने पोप के बारे में सुना है। 29 प्रतिशत ने कहा खूब जानते हैं, 45 प्रतिशत कहा कि पोप के बारे में कम जानते हैं। अप्रैल 2008 में पोप को जानने वालों की संख्या 84 प्रतिशत थी।      








2 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मेरा बचपन- माँ के दुख और हम

         माँ के सुख से ज्यादा मूल्यवान हैं माँ के दुख।मैंने अपनी आँखों से उन दुखों को देखा है,दुखों में उसे तिल-तिलकर गलते हुए देखा है।वे क...