रविवार, 29 नवंबर 2009

कैथरीन विलियम्स की एक कविता





                           जितना मुझे याद है उससे ज्यादा भूल चुकी है 
                            एक बिखरे अतीत की
                            अनजान कहानियों में खुद को खोजती हुई।
                          विस्थापन,ताकत के दुरुपयोग और 

                              सरोकारविहीनता के धुंधलके में 
                                   खोई जिंदगी के बीच
                                        पैंतालीस वर्ष बाद,
                                       फिर मैं जीवित हुई-
                                      अंधकार से निकल रोशनी के लिए

                                   (कैथरीन वि‍लि‍यम्‍स की कवि‍ता। अनुवाद-सुधा सिंह)

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

विशिष्ट पोस्ट

मेरा बचपन- माँ के दुख और हम

         माँ के सुख से ज्यादा मूल्यवान हैं माँ के दुख।मैंने अपनी आँखों से उन दुखों को देखा है,दुखों में उसे तिल-तिलकर गलते हुए देखा है।वे क...