रविवार, 29 नवंबर 2009

महेन्‍द्र 'नेह' के दो वर्चुअल काव्‍य पोस्‍टर





   महेन्‍द्र 'नेह ' की उपरोक्‍त दोनों कवि‍ताएं और डि‍जायन रवि‍कुमार ,रावतभाटा, के ब्‍लॉग ' सृजन और सरोकार' से साभार यहां दी जा रही हैं।कवि‍ता और पेंटिंग का उनके ब्‍लॉग पर सुंदर संगम दि‍खाई देता है।

3 टिप्‍पणियां:

  1. रविकुमार ने कविता पोस्टर कला को नए आयाम दिए है। इस कला में आस-पास कोई और दिखाई नहीं पड़ता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कम से कम रवि जी ब्लॉग का लिंक तो दे देते.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज 28/01/2013 को आपकी यह पोस्ट (दीप्ति शर्मा जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मेरा बचपन- माँ के दुख और हम

         माँ के सुख से ज्यादा मूल्यवान हैं माँ के दुख।मैंने अपनी आँखों से उन दुखों को देखा है,दुखों में उसे तिल-तिलकर गलते हुए देखा है।वे क...