शुक्रवार, 19 मार्च 2010

स्वातंत्र्योत्तर भारत के महान् कथाकार मार्कण्डेय का निधन



  (स्वर्गीय कथाकार मार्कण्डेय)           
आज सुबह मार्क्सवादी आलोचक अरुण माहेश्वरी का फोन आया और बताया कि भाई मार्कण्डेय नहीं रहे। सुनकर धक्का लगा और बेहद कष्ट हुआ ,विश्वास नहीं हो रहा था भाई मार्कण्डेय का मौत हो गयी है। अभी कुछ दिन पहले ही अरुण-सरला माहेश्वरी उन्हें अस्पताल जाकर देखकर आए थे और दो -तीन दिन पहले मार्कण्डेयजी की बेटी का भी फोन अरुण के पास आया था कि मार्कण्डेयजी ठीक हो रहे हैं और उन्हें एक-दो दिन में घर ले जाएंगे। लेकिन आज जब खबर मिली मार्कण्डेय जी का निधन हो गया तो बेहद कष्ट हुआ।
   हिन्दी की जनवादी साहित्य परंपरा के निर्माण में मार्कण्डेय जी की अग्रणी भूमिका रही है। मार्कण्डेयजी सिर्फ साहित्यकार ही नहीं थे बल्कि साहित्य और लेखकों के संगठनकर्त्ता भी थे। साहित्य की प्रगतिशील परंपरा में स्वतंत्र भारत में जिन लेखकों ने साहित्यकारों के संगठन निर्माण में अग्रणी भूमिका अदा की थी उनमें मार्कण्डेयजी का योगदान सबसे ज्यादा था। इसके अलावा किसानों-मजदूरों के संघर्षों के प्रति उनमें गहरी निष्ठा थी, हिन्दी में ऐसे अनेक लेखक हैं जो पापुलिज्म के शिकार रहे हैं,लेकिन मार्कण्डेयजी ने कभी पापुलिज्म के आगे अपने विवेक और कलम को नहीं झुकने दिया।
     स्वतंत्र भारत की साहित्य की परिवर्तनकामी परंपरा के समर्थ लेखक के रुप में मार्कण्डेय को हमेशा याद किया जाएगा। मुझे व्यक्तिगत तौर पर उनसे कईबार मिलने और घंटों लंबी चर्चा करने का मौका मिला था। उनके व्यक्तित्व की सादगी, पारदर्शिता और विचारधारात्मक पैनापन मुझे हमेशा आकर्षित करता था। उनकी खूबी थी कि वे फिनोमिनाओं ज्यादा बारीकी से पेश करते थे, फिनोमिना या संवृत्तियों को विश्लेषित करने में उन्हें मजा आता था। हिन्दी लेखकों में बढ़ते गैर साहित्यिक रुझानों पर वे खासतौर पर चिन्तित रहते थे।       
 ‘लेखक मंच’ के अनुरागजी ने लिखा है-        ‘‘प्रेमचंद के बाद हिंदी कथा साहित्य में ग्रामीण जीवन को पुनस्र्थापित करने वालों में मार्कण्डेय महत्वपूर्ण कथाकार थे। उन्होंने आम आदमी के जीवन में साहित्य में जगह दी। वह जनवादी लेखक संघ के संस्थापकों में से थे।
1965
में उन्होंने माया के साहित्य महाविशेषांक का संपादन किया था। कई महत्वपूर्ण कहानीकार इसके बाद सामने आए। 1969 में उन्होंने साहित्यिक पत्रिका कथा का संपादन शुरू किया। इसके अभी तक 14 अंक ही निकल पाए हैं। साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र में पत्रिका को मील का पत्थर माना जाता है।
उन्होंने जीवनभर कोई नौकरी नहीं की। अग्निबीज, सेमल के फूल(उपन्यास), पान फूल, महुवे का पेड़, हंसा जाए अकेला, सहज और शुभ, भूदान, माही, बीच के लोग (कहानी संग्रह), सपने तुम्हारे थे (कविता संग्रह), कहानी की बात (आलोचनात्मक कृति), पत्थर और परछाइयां (एकांकी संग्रह) आदि उनकी महत्वपूर्ण कृतियां हैं। हलयोग (कहानी संग्रह) प्रकाशनाधीन है।
   उनकी कहानियों का अंग्रेजी, रुसी, चीनी, जापानी, जर्मनी आदि में अनुवाद हो चुका है। उनकी रचनाओं पर 20 से अधिक शोध हुए हैं।
80
वर्षीय मार्कण्डेय को दो साल पहले गले का कैंसर हो गया था। इलाज से वह ठीक हो गए थे। अब आहार नली के पिछले हिस्से में कैंसर हो गया था। वह 1 फरवरी को इलाज के लिए दिल्ली आ गए थे। राजीव गांधी कैंसर अस्पताल, रोहिणी में उनका इलाज चल रहा था।’’
  स्वर्गीय मार्कण्डेय जी ने अमृत राय पर एक संस्मरण लिखा था 'भाई अमृत रायः कुछ यादें', पेश हैं उसकी कुछ बानगी-
‘‘
अमृत राय ने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के अमरनाथ झा छात्रावास में रहकर एमए किया। शायद आज कई लोगों को लगे कि यह कोई खास बात नहीं है, लेकिन उस समय की परिस्थियों को देखते हुए यह बात सचमुच रेखांकित करने के योग्य है। तब के इलाहाबाद विश्वविद्यालय और एएन झा छात्रावास का नाम देश के संभ्रांत समाज से जुड़ा हुआ था। लोग आईसीएस बनने का सपना लेकर उसमें भर्ती होते थे। अंग्रेजियत का तो वहां बोलबाला था। भाषा ही नहीं वरन् रहन-सहन के विशेष स्तर के कारण उस छात्रावास में बड़े-बड़े अधिकारियों के पुत्र-कलत्र ही स्थान पाते थे, लेकिन अमृत भाई उसमें घुस ही नहीं गये वरन् एक छोटे से अण्डरवियर के ऊपर घुटने तक का नीचा कुर्ता पहनकर हॉस्टल से बाहर सड़क पर चाय पीने भी पहुंचने लगे। बताते हैं कि इस बात को लेकर पहले सख्त विरोध हुआ लेकिन अध्ययन और विशेषतः अंग्रेजी भाषा का सवाल आते ही लोग उनके सामने बगलें झांकने लगते थे। कहते हैं अमृत जी ने 'कैपिटल' को उसी समय बगल में दबाया और कुछ दिनों बाद तो वे लेनिन की पुस्तकें साथ लेकर विभाग भी जाने लगे।’’
   आजादी के बाद की कहानी पर मार्कण्डेय की खास नजर थी, वे इस पहलू को लेकर चिन्तित भी थे कि हिन्दी में कहानी की आलोचन क जिस रुप में विकास होना चाहिए वह नहीं हो पाया है। आजादी के बाद लिखी जा रही आलोचना पर मार्कण्डेय ने लिखा ‘‘ स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद के वर्षों में कहानी चर्चा के केन्द्र में थी। लेकिन कथा-आलोचना की किसी परंपरा के अभाव में कुछ आलोयक नितान्त वैयक्तिक अथवा सैद्धान्तिक स्तरों पर कहानियों की समीक्षाएं किया करते थे। नए कहानी आन्दोलन की बहुआयामी प्रकृति का साथ देने के लिए कहानी के साथ आलोचना का जैसा विकास होना चाहिए था,वह हो नहीं पाया था। कविता की आलोचना पद्धति नयी कहानी की वास्तविक व्याख्या के लिए अक्षम थी।’’
    मार्कण्डेय ने यह भी लिखा कि आजादी के बाद ‘‘ कुछ लोग इसे आजादी मानने को तैयार नहीं थे,कुछ लोग इसे राजनीतिक आजादी तो मानते थे लेकिन साम्राज्यवादी आर्थिक दबाब के रहते इसे जनता के लिए निरर्थक समझते थे। तरह-तरह की शंकाओं ,विचारों, और परिभाषाओं ने तत्कालीन सामाजिक जीवन को उद्वेलित कर रखा था। लेकिन देश के पूंजीवादी नेतृत्व की असफलता पर व्यापक सहमति थी। अव्यवस्था और साम्प्रदायिक दंगों ने देश को जड़ से हिला दिया था।  महात्मा की राम-राज्य की परिकल्पना के चलते कायदे आजम मुस्लिम राज्य बन गया था। ऐसे संक्रांति- काल में लेखकों को झूठे आदर्शों में उलझाए रखना अथवा देश की वर्तमान स्थितियों से अलग कोई वैचारिक पाठ पढ़ाना संभव नहीं रह गया था। इसलिए परिवेश ही सत्य बन गया था, और सब सत्याभास।’’ हिन्दी कथा साहित्य में मार्कण्डेय सबसे प्रखर विचारक कहानीकार-संगठनकर्त्ता थे। उनके निधन से हिन्दी साहित्य और लेखक संगठनों, की अपूरणीय क्षति हुई है।














1 टिप्पणी:

  1. यह बहुत दुख्दायक समाचार है । मुझे वह दिन याद आ गया जब मारकण्डेय जी से कहानी पाठ सुना था । उन्हे अश्रुपूरित श्रधांजलि ।

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मेरा बचपन- माँ के दुख और हम

         माँ के सुख से ज्यादा मूल्यवान हैं माँ के दुख।मैंने अपनी आँखों से उन दुखों को देखा है,दुखों में उसे तिल-तिलकर गलते हुए देखा है।वे क...