रविवार, 20 मार्च 2011

केशर की कलि की पिचकारी-निराला


केशर की,कलि की पिचकारीः
पात-पात की गात सँवारी।

राग-पराग-कपोल किये हैं,
लाल-गुलाल अमोल लिये हैं
तरू-तरू के तन खोल दिये हैं,
आरती जोत-उदोत उतारी-
गन्ध-पवन की धूप धवारी।

गाये खग-कुल-कण्ठ गीत शत,
संग मृदंग तरंग-तीर -हत
भजन-मनोरंजन-रत अविरत,
राग-राग को फलित किया री-
विकल -अंग कल गगन विहारी।






5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत जबरदस्त

    होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर...
    आपको होली की अशेष शुभकामनाएं.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. होली की हार्दिक शुभकामनाएं
    manish jaiswal
    bilaspur
    chhattisgarh

    उत्तर देंहटाएं
  4. होली की हार्दिक शुभकामनाएं
    manish jaiswal
    bilaspur
    chhattisgarh

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मेरा बचपन- माँ के दुख और हम

         माँ के सुख से ज्यादा मूल्यवान हैं माँ के दुख।मैंने अपनी आँखों से उन दुखों को देखा है,दुखों में उसे तिल-तिलकर गलते हुए देखा है।वे क...