शुक्रवार, 25 जून 2010

पोर्न क्रांति के निशाने पर तरूणाई

            अमेरिका के बारे में हमारे समाज में भ्रम फैलाने में मीडिया सबसे आगे है। अमेरिका में औरत और पोर्न का जो रिश्ता सामने आया है उसने औरत को असहाय बनाने में बड़ी भूमिका अदा की है। 10 अप्रैल 2010 को अमेरिकी मीडिया में सबसे बड़ी खबर थी कि अमेरिका में तैराकी के 36 प्रशिक्षकों को नौकरी से निकाल दिया गया। इनका अपराध यह था कि इन्होंने तैराक अवयस्क लड़कियों के साथ बुरा सुलूक किया।
     एबीसी न्यूज की खोजी रिपार्ट में बताया गया कि बड़े पैंमाने पर तैराकी के कोच अवयस्क तैराक लड़कियों का अपमान,शीलहरण और यौनशोषण कर रहे थे। यह बात लड़कियों से लिए गए इंटरव्यू में सामने आई।
     यह तथ्य भी सामने आया कि लड़कियों की बिना जानकारी के उनकी वीडियो फिल्म बनायी गयीं जिनमें उनके यौनशोषण के भी दृश्य थे। ऐसी वीडियो फिल्में पोर्न बाजार के लिए तैयार की गई थीं। एक प्रशिक्षक ब्रायन हिंडसन ने तो बड़े ही नियोजित ढ़ंग से यह काम किया उसने दो लड़कियों को खास समय पर आने के लिए कहा और विशेष स्नानघर में नहाने के लिए कहा, लड़कियां नहीं जानती थीं कि वह ऐसा क्यों कर रहा है।
     असल में प्रशिक्षक ने उन लड़कियों के गुप्त कैमरों के जरिए वीडियो फिल्म बनाने के लिए ऐसी व्यवस्था की थी। बाद में जांच के बाद हिंडसन के कम्प्यूटर से बड़ी मात्रा में बाल पोर्नोग्राफी पाई गयीं। पुलिस ने एबीसी को बताया कि हिंडसन विगत 10 सालों से पोर्न वीडियो बनाकर बेच रहा था। इसकी किसी को जानकारी नहीं थी। सन् 2008 में उसे 33 साल की सजा सुनाई गयी।
     इसी तरह का मामला सन जोश एंडी किंग का है,ये जनाब 62 साल के हैं और इसमें से 30 सालों तक लड़कियों का यौन शोषण का विश्व रिकार्ड बना चुके हैं। किंग साहब को अमेरिका के तैराकी संघ ने श्रेष्ठ तैराक प्रशिक्षक का प्रमाणपत्र 2008 में दिया है। बाद में ये जनाब एक 14 साल की लड़की के गर्भवती हो जाने के बाद पकड़े गए और उन्हें 40 साल की सजा सुनाई गयी है। उसी दौरान जांच से पता चला कि किंग साहब लंबे समय से अपना धंधा कर रहे थे। उनके खिलाफ 15 लड़कियों ने यौन शोषण की शिकायत की और अदालत में गवाही भी दी।
   पोर्न क्रांति का अमेरिकी समाज सीधा असर यह हुआ कि समूचा समाज आज शादी-पूर्व शारीरिक संबंध बनाने में विश्वास करता है और समाज में कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं है जिसका विवाह पूर्व किसी औरत से शारीरिक संबंध न रहा हो। शादी पूर्व संबंध की परंपरा अमेरिकी समाज में कई दशक पुरानी है।
    पोर्न क्रांति ने समूचे समाज को कामुक तौर पर गतिशील बना दिया है और इसका परिणाम है कि आज अमेरिका में 15-19 साल के बीच की तकरीबन 46 प्रतिशत लड़कियां कम से कम एक बार सेक्स कर चुकी हैं।
    पन्द्रह साल उम्र की अविवाहित लड़कियों में 13 प्रतिशत सेक्स कर चुकी हैं। वे जब तक वे 19 साल की उम्र तक पहुँचती हैं 10 में से 7 अविवाहित लड़कियां संभोग कर चुकी होती हैं। ज्यादातर अमेरिकी युवा 17 साल की उम्र तक आते-आते पहलीबार सेक्स कर चुके होते हैं। लेकिन वे 20 साल की उम्र तक शादी नहीं करते। इसका अर्थ यह है कि अवयस्कों में गर्भधारण और सेक्स संक्रमित बीमारियों का खतरा सबसे ज्यादा है।
      सेक्स के प्रति बड़ते आग्रह ने तरूणों को ही नहीं विभिन्न आयु वर्ग के लोगों को प्रभावित किया है। लेकिन युवाओं में यह प्रवृत्ति ज्यादा देखने को मिली है। कहने का आशय यह है कि पोर्न का प्रचार-प्रसार सेक्स को तेजगति प्रदान करता है और खासकर तरूणों में सेक्स के प्रति अविवेकपूर्ण अपील पैदा करता है। इसके व्यापक सामाजिक और आर्थिक दुष्परिणाम भी हुए हैं।
    पोर्नोग्राफी में बगैर किसी प्रोटक्शन के सेक्स करते दिखाया जाता है इससे तरूण प्रभावित हो रहे हैं और धडल्ले से बिना किसी एहतियात के अमेरिका में सेक्स कर रहे हैं और इससे अवयस्क लड़कियां गर्भवती हो रही हैं और बड़े पैमाने पर गर्भपात भी कराए जा रहे हैं।
   अमेरिका ऐसा देश है जहां गर्भवती अवयस्क लड़कियों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है। अमेरिका में 10 प्रतिशत अवयस्क लड़कियां बच्चों को जन्म देती हैं। 59 प्रतिशत गर्भवती लड़कियों की उम्र 15-19 साल के बीच है। सन् 2006 के आंकड़े बताते हैं कि प्रति 1,000 में 42 बच्चे 15-19 साल की लड़कियों के पैदा हुए हैं। सन् 1991 में प्रति 1,000 में 62 बच्चे पैदा हुए, जबकि सन् 2005 एवं 2006 में इसी उम्र की लड़कियों में  बच्चे पैदा करने की दर में 4 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।
    सात प्रतिशत ऐसी तरूणियां हैं जिन्हें प्रजनन के समय परिवार की कोई मदद नहीं मिली और कमजोर बच्चों को जन्म दिया। तरूणियों का एबार्सन कराना अमेरिका में आम बात है। इसके आंकड़े भी चौंकाने वाले हैं। यहां हम आंकड़ों के खेल में न जाकर उस समस्या की ओर ध्यान खींचना चाहते हैं जिसके कारण अमेरिकी लोग पार्न ज्यादा देखते हैं और सेक्स के प्रति ज्यादा आग्रह रखते हैं।
      इसका प्रधान कारण है अमेरिकी जीवन में चरम अलगाव। अलगाव या अकेलेपन की अवस्था में व्यक्ति पोर्न की ओर खिंचता है,यह अलगाव जितना बढ़ रहा है पोर्न की खपत उतनी ही तेजी से बढ़ रही है। हम जितने इंटरनेट केन्द्रित होते जाएंगे उतने ही अलगाव के शिकार होंगे। अलगाव,पोर्न और सेक्स में गहरा संबंध है। हमें सोचना चाहिए कि सामाजिक अलगाव को कैसे कम किया जाए। अन्य सर्जनात्मक कामों में कितना समय देते हैं और जो करते हैं उसे कितना दूसरों से शेयर करते हैं।             








3 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मेरा बचपन- माँ के दुख और हम

         माँ के सुख से ज्यादा मूल्यवान हैं माँ के दुख।मैंने अपनी आँखों से उन दुखों को देखा है,दुखों में उसे तिल-तिलकर गलते हुए देखा है।वे क...